थूक के चाट लिया : कानपुर में जिन डाक्टरों पर थूका था अब उन्ही से कह रहे - बचा लो जान


दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज से तबलीगी जमाती (Tabligi Jamaat) कोरोना कैरियर्स बनकर उभरे हैं. बीते दिनों जमातियों द्वारा इलाज के दौरान अस्पताल प्रशासन से बदसलूकी के तमाम तरह के मामले सामने आए. जमातियों पर इलाज में सहयोग न करने के आरोप भी लगे. 

वहीं अब उन्ही जमातियों को जान का भय सताने लगा है. जिसके चलते वे आज उन्ही डॉक्टरों से अपनी जान बचाने का अनुरोध कर रहे हैं जिनपे पिछले दिनों थूका था .

कानपुर (Kanpur) के हैलट अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में भर्ती तीन जमातियों को अपनों की याद सताने लगी है. सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर सीएल वर्मा ने बताया कि ये लोग लगातार फोन पर अपनों से बात करते नजर आते हैं. 

साथ ही इनके व्यवहार में भी काफी बदलाव आया है. हैलट अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक आरके मौर्या का कहना है कि अब ये लोग शांत हैं और समय से दवा भी ले रहे हैं.

बता दें कि इससे पहले कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के स्टाफ ने शिकायत की थी कि जमाती सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो नहीं कर रहे हैं. किसी की बात नहीं सुन रहे हैं, वहीं उनसे ऐसा कहने पर मेडिकल स्टाफ के साथ अभद्रता करने लगते हैं. 

अस्पताल प्रशासन ने जमातियों पर थूकने का भी आरोप लगाया है. गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल आरती चंदानी ने यह आरोप लगाए थे.