रमजान में हिन्दू महिला ने की हैण्डपंप से पानी लेने की कोशिश तो मार कर सर फाड़ा, खून ही खून निकाल दिया


अब आतंकवाद पर चुप्पी मतलब आतंकवाद का खुल्ला समर्थन, आतंकवाद पर अब चुप्पी साधकर नहीं रहा जा सकता अन्यथा उसे आतंकवाद का समर्थन ही कहा जायेगा

ऊपर तस्वीर में आपको लहूलुहान महिला दिखाई दे रही है, इस महिला का सर फाड़ दिया गया है, पत्थर से मारकर इसका सर फाड़ा गया है, इसके अलावा इसे जमीन पर लिटा लिटा कर मारा गया है 

इस महिला ने जरुर ही बड़ा अपराध कर दिया होगा, और इस महिला का बड़ा अपराध ये है की ये एक हिन्दू है और रमजान में इसने मुस्लिम बहुल इलाके के हैण्डपंप से पानी लेने की कोशिश की, बस ये ही अपराध है इस महिला का 

मामला पाकिस्तान के सिंध प्रान्त का है जहाँ पर हिन्दू कभी बहुसंख्यक थे पर लगातार सेकुलरिज्म, गाँधी, नेहरु इत्यादि के चलते अब यहाँ हिन्दू अल्पसंख्यक है और अब वो इंसानों में भी नहीं गिने जाते, तभी इस हिन्दू महिला ने हैंडपंप से पानी लेने की कोशिश की तो इसका ये हाल कर दिया गया 


प्यास के मारे इस महिला ने एक हैण्ड पंप को चलाने की गलती कर दी तो इस महिला का खून ही खून निकाल दिया गया, गलती सिर्फ ये की हिन्दू होकर मुस्लिम इलाके से पानी कैसे निकाल रही है 

कुछ दिनों पहले भारत में CAA नाम का कानून आया था जिसका भारत के मजहबी उन्मादियों और सेकुलरों ने खूब विरोध किया था, कदाचित ये लोग ये ही चाहते है की पाकिस्तान बांग्लादेश में हिन्दुओ को इसी तरह मारा जाये, उनका खून निकाला जाए, ये एक कड़वा सच है