चीन से शुरू हुआ वित्तीय युद्ध : योगी ने चीन से बाहर आ रही कंपनियों को यूपी आने का दिया न्योता


अपने वायरस से चीन जो दुनिया में जो तबाही मचाई है उसका खामियाजा चीन को देर सवेर भुगतना ही है और भारत के लिए ये एक सुनहरा मौका है, और भारत ने अब मन बना लिया है की वो इस मौके को हाथ से जाने नहीं देगा

जापान समेत दुनिया के कई बड़े देश चीन से अपनी कंपनियों को बाहर कर रहे है, जापान के अलावा इन देशों में अमेरिका, साउथ कोरिया और यूरोप के देश शामिल है 

इन देशों ने चीन में अपनी कंपनियों को 2 प्रमुख कारणों से खोला था, पहला था सस्ती मजदूरी और दूसरा कारण था की चीन में NGO वाली संस्थाएं काफी कम है जो बात बात पर कोर्ट में PIL दाखिल करके व्यापार के लिए समस्या पैदा करती है 

चीन में आई इन कंपनियों से चीन में बहुत बड़ा निवेश आया और चीन को काफी फायदा भी पहुंचा, चीनी लोगो को रोजगार भी बड़े पैमाने पर इन कंपनियों ने दिया, पर कोरोना फैलाकर चीन ने दुनिया भर की इकॉनमी को बहुत नुक्सान पहुँचाया इसी कारण अब बड़े बड़े देश चीन से अपनी कंपनियों को बाहर करने का मन बना चुके है 

जापान ने तो शुरुवात कर भी दी है और इसके साथ साथ साउथ कोरिया और अमेरिका भी तैयारी कर चूका है और ये भी तय है की यूरोप के बड़े देश भी अमेरिकी कार्यवाही के बाद चीन के खिलाफ कार्यवाही करेंगे 

भारत के पास इसी समय ये सुनहरा मौका है की चीन से बाहर आने वाली कंपनियों को अपने यहाँ बुला सके और निवेश तथा रोजगार के मौके उत्पन्न हो सके, और शुरुवात भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में हो चूका है, जहाँ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई तरह के प्लानिंग में लगे हुए है 

जानकारी के मुताबिक योगी सरकार चीन से बाहर आ रही कंपनियों को उत्तर प्रदेश में आने का न्योता दे रही है, योगी सरकार इन कंपनियों के लिए कई तरह के पैकेज भी बना रही है 


उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए माहौल ठीक है, यहाँ कंपनियों को सस्ते में लेबर भी मिलेगी साथ ही साथ यहाँ अच्छी जमीन और पानी की भी कोई कमी नहीं है, और जिस तरह से उत्तर प्रदेश में योगी सरकार काम करती है यहाँ पर फालतू किस्म के NGO भी काफी कम है जो व्यापार में समस्या उत्पन्न करेंगी 

योगी सरकार विदेशी कंपनियों को हर तरह से लुभाने का प्रयत्न कर रही है ताकि चीन से बाहर आकर वो भारत में निवेश करे और भारत में उत्तर प्रदेश एक बढ़िया आप्शन है 

अगर योगी सरकार कंपनियों को यूपी में लाने में कामयाब होती है तो भारत में बहुत ज्यादा निवेश आयेगा, भारत की इकॉनमी को इस से बहुत ज्यादा फायदा होगा और यहाँ बड़े पैमाने पर रोजगार भी उपलब्ध होगा, टॉप मैनेजमेंट के अलावा लगभग हर काम भारतीयों को ही मिलेगा 

चीन ने दुनिया में तबाही मचाई है, दुनिया के देश उसके खिलाफ आर्थिक कार्यवाही तो करेंगे ही, जापान जैसे देश ने शुरुवात भी कर दी है और भारत इस मौके को कैश करेगा, जिस तरह योगी सरकार ने कार्यवाही शुरू की है उस से भारत ने चीन के खिलाफ वित्तीय युद्ध का ऐलान कर दिया है