नहीं छोड़ी जाएगी चीन की भी इकॉनमी, चीन को बुरी मौत मारने का एक्शन प्लान तैयार, मिटटी में मिलाई जाएगी चीनी इकॉनमी


दुनिया भर की इकॉनमी को अपने वायरस से तबाह करने के बाद चीन इस फ़िराक में बैठा था की वो दुनिया भर में अलग अलग देशों की कंपनियों को सस्ते दाम पर खरीद कर दुनिया की इकॉनमी को अपने कण्ट्रोल में ले लेगा और सुपर पॉवर बन जायेगा

पर चीन के पुरे सपने को मिटटी में मिलाने के लिए अब दुनिया की 2 सबसे प्रमुक आर्थिक महाशक्तियों ने एक्शन प्लान बना लिया है, ये दोनों आर्थिक महाशक्तियां है अमेरिका और जापान

चीन जापान से आर्थिक शक्ति के मामले में पहले ही आगे निकल चूका है वहीँ वो वायरस के जरिये अमेरिका को तबाह कर नंबर 1 पर आने के मनसूबे देख रहा था, वायरस फैलाने में चीन कामयाब भी रहा और दुनिया भर की इकॉनमी को भी बर्बाद कर दिया, पर चीन के खिलाफ अब अमेरिका और जापान ने भी एक्शन प्लान तैयार कर लिया है

चीन इस फ़िराक में है की वो दूसरों की इकॉनमी को तबाह करेगा, अपने यहाँ वायरस को कण्ट्रोल में रखेगा और अपनी इकॉनमी को बचा कर रखने में कामयाब रहेगा, चीन की मंशा को अमेरिका और जापान ने भांप लिया है और अब ये दोनों देश चीन की इकॉनमी को मिटटी में मिलाने का प्लान तैयार कर चुके है

शुरुवात जापान ने की, अपनी सभी कंपनियों को चीन में बंद करने का ऐलान कर दिया है, जापान के बाद अमेरिका के सहयोगी साउथ कोरिया ने भी चीन पर एक्शन लेना शुरू कर दिया है और सैमसंग ने अपनी फैक्ट्रीयों को चीन में बंद कर दिया है

और अब बारी है अमेरिका की, जानकारी ये सामने आई है की अमेरिका भी अपनी कंपनियों को चीन से बाहर अकरने की तैयारी कर चूका है और इसका सिर्फ आधिकारिक ऐलान ही बाकी है
फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका चीन से अपनी बड़ी बड़ी कंपनियों को बाहर करने को लेकर काम कर रहा है, इन कंपनियों ने चीन में अरबों डॉलर का निवेश कर रखा है इसलिए कंपनियों को अचानक बंद भी नहीं किया जा सकता, अमेरिका की सरकार धीरे धीरे एक एक करके कंपनियों को बंद करने को लेकर योजना बना चुकी है

साफ़ है की चीन को अमेरिका और जापान ने घेरने का एक्शन प्लान तैयार कर लिया है, सभी जापानी, कोरियाई और अमेरिकी कंपनियों के बाहर जाने से चीन की जीडीपी को एक साथ बहुत बड़ा नुक्सान होगा और इस से चीनी स्टॉक मार्किट भी क्रेश होने लगेंगे, इसके साथ साथ दुनिया के अन्य देश भी चीन से अपनी कंपनियों और निवेश को बाहर करने का कम शुरू कर देंगे और चीन की इकॉनमी को बुरी मौत मिलेगी

चीन ने दुनिया को कण्ट्रोल करने के लिए वायरस फैलाकर एक बड़ी गलती की है और चीन को इसका खामियाजा जल्द ही भुगतना पड़ेगा