जमशेदपुर के हिन्दू फल बिक्रेता की जान खतरे में, उन्मादी अब दे रहे मौत के घाट उतारने की धमकी


पहले झारखण्ड की JMM-कांग्रेस की सरकार ने हिन्दू दुकानदार के मानवाधिकार और धार्मिक स्वतंत्रता का हनन किया और उसके खिलफ 107 का मामला दर्ज कर लिया, अब इस हिन्दू दुकानदार की जान के पीछे मजहबी उन्मादी पड़ गए 

बीते दिनों जमशेदपुर में एक हिन्दू दुकानदार ने अपनी दूकान पर 'हिन्दू फल दुकान' का पोस्टर लगाया था, मुसलमानों की आपत्ति के बाद झारखण्ड की पुलिस ने तुरंत पोस्टर को फाड़कर हटा दिया, और दुकानदार पर 107 का मामला दर्ज कर दिया 

अब जानकारी ये सामने आ रही है की इस हिन्दू दुकानदार को फ़ोन पर मजहबी उन्मादी लगातार मौत के घाट उतारने की धमकी दे रहे है 

इस हिन्दू दुकानदार के फ़ोन नंबर को मजहबी उन्मादियों ने ग्रुप्स में डाल दिया है जिसके बाद इस दुकानदार को अनगिनित नंबर से कॉल आ रहे है और मजहबी उन्मादी फ़ोन पर इस दुकानदार को मौत के घाट उतार देने की धमकी दे रहे है 

इस दुकानदार ने पुलिस में लिखित शिकायत भी की है हालाँकि पुलिस ने अबतक इस सन्दर्भ में कोई कार्यवाही नहीं की है 


घटना से पता चलता है की हिन्दू का जीना कितना मुश्किल है, एक हिन्दू अपने आप को हिन्दू भी नहीं कह सकता, वो अपनी दूकान पर हिन्दू शब्द लिखे तो पुलिस उसे आकर प्रताड़ित करती है, और फिर उस हिन्दू के पीछे मजहबी उन्मादी पड़ जाते है और उसे मौत के घाट उतार देने की धमकी दी जाती है और ऐसे मामलों में पुलिस कोई कार्यवाही नहीं करती 

देश की स्तिथि काफी भयावह हो चुकी है और इस घटना से ये साफ़ होता है की अब हिन्दू को खुद को हिन्दू कहने से पहले 100 बार सोचना होगा, उसे पुलिस की प्रताड़ना का भी शिकार होना पड़ सकता है और ये भी मुमकिन है की मजहबी उन्मादी उसे जीने ही न दे