पालघर में हिन्दू संतों की जगह पादरियों को मारा होता तो क्या ऐसे ही चुप रहती एंटोनिया : अर्नब गोस्वामी


पालघर में 2 हिन्दू संतों को उन्मादी भीड़ ने मौत के घाट उतार दिया, जानकारियां सामने आ चुकी है की इलाके में इसाई मिशनरियां एक्टिव है और यहाँ कई दशको से धर्मांतरण का खेल खेला गया है, साथ ही इलाके में विधायक भी सीपीएम का है, और ये भी जानकारियां सामने आई है की जब उन्मादी भीड़ हिन्दू संतों को मार रही थी तब एनसीपी और सीपीएम के नेता भी वहां मौजूद थे

इस घटना पर कांग्रेस पार्टी और सोनिया गाँधी एकदम चुप है, जबकि महाराष्ट्र में उनकी पार्टी भी सत्ता में है, इस चुप्पी पर पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने निशाना साधा और कहा की - अगर पालघर में हिन्दू संतों की जगह इसाई पादरियों को मारा गया होता तो क्या ऐसे ही चुप रहती एंटोनिया माइनो 

अर्नब ने कहा की - एंटोनिया माइनो आज चुप है, मुझे तो लगता है की वो अन्दर ही अन्दर बहुत खुश होगी की हिन्दू संतों को मार दिया गया, अर्नब ने ये भी कहा की - एंटोनिया तो रोम में रिपोर्ट भेज देगी की देखो मैंने जहाँ सरकार बना ली वहां हिन्दू संतों को मार दिया गया 

अर्नब गोस्वामी ने ये भी कहा की - इटली से आई हुई एंटोनिया इसलिए चुप है क्यूंकि मरने वाले हिन्दू संत है, उसकी पूरी पार्टी भी इसी कारण चुप है क्यूंकि मरने वाले हिन्दू संत है, अगर हिन्दू संतों की जगह पादरियों को मारा होता तो एंटोनिया माइनो और उनकी कांग्रेस पार्टी ऐसे चुप न रहती, देखिये विडियो 


आपकी जानकारी के लिए बता दें की जिन हत्यारों ने हिन्दू संतों की हत्या की है उनकी मदद के लिए अदालत में पीटर नाम के इसाई शख्स का NGO सामने आया है जो की हत्यारों के लिए अदालत में काम कर रहा है

कांग्रेस एनसीपी और शिवसेना की सरकार मामले की लगातार लीपापोती में लगे है और ये सब जल्द से जल्द मामले को रफादफा कर देना चाहते है full-width