कोरोना की दवाई बनाने में सबसे आगे निकला इजराइल, इसरायली नागरिको के बाद भारत को ही मिलेगा सबसे पहले


चीनी वायरस की दवाई बनाने के लिए पूरी दुनिया के पढ़े लिखे देशों के वैज्ञानिक युद्ध स्तर पर लगे हुए है, इजराइल, यूरोप, जापान, अमेरिका, भारत सभी जगहों पर वैक्सीन या दवाई बनाने के लिए दिन रात काम चल रहा है

दवाई बनाने के लिए जैसे रेस लगी हुई है और इस रेस में इजराइल सबसे आगे निकलता दिखाई दे रहा है, जहाँ अमेरिका और जापान दवाई बनाने के लिए 1 साल से 18 महीने तक का समय बता रहा है वहीँ इजराइल के वैज्ञानिक अब 'सिर्फ कुछ महीने' की बात कर रहे है, भारत ऐसे देशों में भी दवाई बनाने को लेकर काम चल रहा है हालाँकि भारत में अभी मानवों पर कोई टेस्टिंग शुरू नहीं हुई है

इजराइल के वैज्ञानिक मानवों पर टेस्टिंग काफी पहले ही शुरू कर चुके है और नतीजों के बाद इजराइल ने कहा है की वो दवाई पाने से सिर्फ कुछ महीने ही दूर है, मुमकिन है की 2-3 महीने में इजराइल बना ले

दवाई बनने के तुरंत बाद इसे बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन में ले जाया जायेगा उसके बाद सबसे पहले दवाई को सभी इसरायली नागरिको के लिए इस्तेमाल किया जायेगा उसके बाद इजराइल इस दवाई को सबसे पहले भारत और अमेरिकी सरकार को देगा