मस्जिदों के इमामों को तनख्वाह देने के लिए हिन्दू सिखों पर टैक्स लगाकर लूट रहा केजरीवाल ?


दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पिछले दो दिनों में 2 काम किये है और इन कामो को देखकर ये समझ में आने लगा है की केजरीवाल की सरकार दिल्ली में जनता को लूट रही है और अगर धार्मिक विश्लेषण किया जाये जो की बेहद जरुरी है तो साफ़ होगा की लूट हिन्दू और सिखों से की जा रही है 

केजरीवाल ने दिल्ली में शराब की कीमतों में रातों रात काफी बढ़ावा किया है, अब MRP से भी 70% ज्यादा देना होगा शराब के लिए

इसका मतलब ये है की जो बोतल 100 की थी वो आज से 170 रुपया की हो चुकी है, एक साथ सीधे 70% की बढ़ोतरी

दिल्ली में शराब खरीदने वाले अधिकतर लोग हिन्दू और सिख ही है, तो 70% टैक्स की मार सीधे सीधे हिन्दू और सिख जनता पर ही पड़ी है 

दूसरा काम आज केजरीवाल ने ये किया की डीजल के 1 लीटर पर 7 रुपए 10 पैसा टैक्स लगा दिया, डीजल पर एक साथ इतना टैक्स दिल्ली में कभी नहीं लगाया गया, और ये काम केजरीवाल ने रमजान के महीने में किया

केजरीवाल की इन दो हरकतों से साफ़ होता है की केजरीवाल दिल्ली में हिन्दू और सिख जनता पर टैक्स की मार मारना चाहता है, टैक्स की कमाई करना चाहता है और इसी पैसे से फिर मस्जिदों के इमामों को सैलरी दी जानी है, रामजनी गिफ्ट्स, इफ्तारी पार्टियाँ भी दी जानी है 


बता दें की केजरीवाल की सरकार हर महीने दिल्ली के हर मस्जिद के इमाम और अन्य लोगो को 44 हज़ार रुपया महिना तक देती है, ऐसी कोई सैलरी हिन्दू मंदिरो या सिख गुरुद्वारों को नहीं दी जाती