झूठ और फेक न्यूज़ के जरिये देश में पैनिक फैलाने वाले इन तीनो की गिरफ़्तारी कब होगी ?



बीजेपी की सरकार जो की केंद्र में बैठी है और रेल डिपार्टमेंट, इन दोनों के खिलाफ राहुल गाँधी, सोनिया गाँधी और प्रियंका वाड्रा ने फेक न्यूज़ फैलाया है, और इस फेक न्यूज़ से देश में पैनिक और अराजकता का माहौल बनाया है 

रेलवे ने अलग अलग राज्यों में फंसे मजदूरों के लिए स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाया, सरकार ने पहले ही आदेश दिया की मजदूरों से कोई पैसा नहीं लिया जायेगा, किसी भी रेलवे स्टेशन पर टिकेट नहीं बेचा गया, 1 भी टिकेट नहीं बेचा गया, किसी भी मजदुर से 1 भी पैसा नहीं लिया गया 

सरकार का साफ़ आदेश था की 85% पैसा केंद्र सरकार और 15% पैसा राज्य सरकारें देंगी, पर राहुल गाँधी, सोनिया गाँधी और प्रियंका वाड्रा और इनके साथियों ने इस मौके पर देश में अराजकता और पैनिक फैलाने के मकसद से फेक न्यूज़ फैलाया 

इन लोगो ने ये झूठ फैलाया की देश में मजदूरों से टिकेट का पैसा लिया जा रहा है, इनके लोगो ने सोशल मीडिया पर नकली टिकट्स की तस्वीरें भी वायरल की, नकली प्रिंट आउट निकाल कर टिकट्स दिखाए गए, जबकि रेलवे ने तो न ऑनलाइन और न ही स्टेशन पर 1 भी टिकेट बेचा 

फेक न्यूज़ पूरी की पूरी कांग्रेस की टीम ने फैलाया और शुरुवात सीधे सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी और प्रियंका वाड्रा ने की, देखिये 






इन सभी ने देश में झूठ और प्रपंच फैलाया, देश में पैनिक फैलाकर राजनीती की, फेंक न्यूज़ फैलाया

अब सबसे बड़ा सवाल ये है की महाराष्ट्र में सोनिया गाँधी के पास सरकार है तो वो अर्नब गोस्वामी के खिलाफ FIR कर सकती है, पर केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी, प्रियंका वाड्रा के खिलाफ कार्यवाही कब करेंगे ? फेंक न्यूज़, अराजकता, पैनिक फैलाने पर इन तीनो की गिरफ़्तारी कब होगी, या इन्हें फेक न्यूज़, पैनिक, अराजकता फैलाने की छुट मिली हुई है